शुक्रवार, मार्च 29, 2013

दोनों एक हैं!


दोनों एक हैं,
मैंने देखा है,
खुद अपनी आँखों,
आदमी और औरत को,
दोनों को,
जो झोंकते आये हैं,
धूल सबकी आँखों में,
देखे और पकड़े जाने पर,
खिलखिला कर कहते हैं-
भलाई है सबकी,
इसी झूठ में!.
---